खेल और खिलाड़ियों को प्रोत्साहन

समाजवादी पार्टी की सरकार उत्तर प्रदेश में खेलों और खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने के लिए विभिन्न योजनाओं को अमल में ला रही है। स्वंय खेलों में विशेष रुचि रखने वाले मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का मानना है कि अच्छा खिलाड़ी तैयार करने के लिए किसी बच्चे को छोटी उम्र से ही बारीकियां सिखाने की जरूरत है। इसी बात को ध्यान में रखकर उत्तर प्रदेश सरकार सर्वश्रेष्ठ सुविधाएं मुहैया कराकर खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन कर रही है। इसी कड़ी में लखनऊ में अंतरराष्ट्रीय स्तर के क्रिकेट स्टेडियम, फुटबॉल स्टेडियम व साइकिल एकेडमी के अलावा प्रदेश के विभिन्न जिलों में ग्रामीण स्टेडियम का निर्माण किया जा रहा है। समाजवादी सरकार का मकसद है कि उत्तर प्रदेश से राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी निकलें। यही वजह है कि खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन करने के लिए पुरस्कार प्राप्त खिलाड़ियों को पेंशन व सरकारी नौकरी देने की घोषणा की गई है।

  • 50 000 दर्शक क्षमता वाले अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का लखनऊ में निर्माण।
  • 137 एकड़ में हो रहा अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का निर्माण।
  • पीपीपी मॉडल पर तैयार होने वाले अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में खिलाड़ियों को विश्वस्तर की सभी अत्याधुनिक सुविधाएं उपलब्ध होंगी।
  • अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का संचालन और रखरखाव इकाना स्पोटर्स 35 साल तक करेगी।
  • लखनऊ में उत्तर प्रदेश का पहला उच्चस्तरीय सुविधाओं वाला अन्तरराष्ट्रीय फुटबाल स्टेडियम बनाने का निर्णय लिया गया है ।
  • गोमतीनगर विस्तार में बनने वाले अन्तरराष्ट्रीय फुटबाल स्टेडियम में दर्शकदीर्घा, कॉर्पोरेट बाक्स, मीडिया और वीआईपी गैलरी बनाई जाएगी।
  • फुटबाल स्टेडियम में अन्तरराष्ट्रीय मैचों के साथ-साथ इंडियन फुटबाल लीग एवं राष्ट्रीय व प्रादेशिक फुटबाल मैचों का भी आयोजन होगा।
  • लखनऊ में साइकिल प्रशिक्षण एवं अन्तरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के लिए विश्वस्तरीय 08 साइकिल ट्रैक्स के वेलोड्रम एवं साइकिलिंग एकेडमी की स्थापना का कार्य प्रगति पर।
  • अन्तरराष्ट्रीय खेलों जैसे ओलम्पिक, विश्वकप, विश्व चैम्पियनशिप, एशियन गेम्स और कामनवेल्थ गेम्स में उत्तर प्रदेश के पदक विजेताओं को सीधी भर्ती के माध्यम से राजपत्रित पदों पर नियुक्ति देने का निर्णय लिया गया है ।