सूचना प्रौद्योगिकी

आईटी कंपनी एचसीएल का मानना है कि लखनऊ भारत का अगला आईटी हब बनेगा। इसका श्रेय उत्तर प्रदेश की समाजवादी सरकार को जाता है। सूचना प्रौद्योगिकी के माध्यम से नए दौर के विकास में उत्तर प्रदेश को शामिल करने के लिए समाजवादी पार्टी ने आईटी सिटी और आईटी पार्क का सपना देखा। इसी सपने को साकार करने के लिए लखनऊ की सीजी सिटी में आईटी सिटी को विकसित किय जा रहा है। आईटी सिटी के तैयार हो जाने के बाद बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार के अवसर मिलेंगे।

  • लखनऊ स्थित चकगंजरिया फॉर्म को सीजी सिटी के रूप में विकसित किया जा रहा है।
  • सीजी सिटी में आईटी सिटी, आईटी पार्क सहित ट्रिपल आईटी (IIIT), मेडिसिटी, सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल, कार्डियो सेंटर, एडमिनिस्ट्रेशन एकेडमी, डेयरी प्रोसेसिंग प्लांट और मॉडर्न टाउनशिप भी बनाई जा रही है।
  • 100 एकड़ में आकार ले रही आईटी।
  • 1500 करोड़ रुपये से हो रहा आईटी सिटी का विकास।
  • 75000 लोगों को आईटी सिटी से मिलेगा रोजगार।
  • लखनऊ के अलावा मेरठ, आगरा, कानपुर, गोरखपुर और गाजियाबाद में भी आईटी पार्क की स्थापना का कार्य शुरू हो चुका है।
  • 75 जिलों में लागू हो रही ई- डिस्ट्रिक्ट योजना।
  • ई-गवर्नेंस के माध्यम से आम नागरिकों को उनके घर के पास विभिन्न सरकारी सेवाएं जैसे, जन्म-मृत्यु, आय, निवास, जाति प्रमाणपत्र आदि कम समय में और पारदर्शी तरीके से प्रदान करने की व्यवस्था की गई है।