कृषि ऋण माफी योजना

समाजवादी पार्टी किसानों की हमेशा ही हितैषी रही है। यही वजह है कि उत्तर प्रदेश की समाजवादी सरकार के वर्तमान कार्यकाल में भी किसानों कल्याण के लिए विभिन्न योजनाएं चलाई जा रही हैं। इन योजनाओं को किसानों और उपभोक्ताओं, दोनों से समान रूप में सराहना मिल रही है। बात चाहे किसान मंडियों व किसान बाजारों की स्थापना की हो या फिर उच्च गुणवत्ता वाले बीज, खाद और कीटनाशक उपलब्ध कराने की हो, हर पहलू को समझते हुए समाजवादी सरकार की ओर से बेहतरीन कार्यक्रम संचालित किए जा रहे हैं। इसी कड़ी समाजवादी सरकार ने कृषि ऋण माफी योजना चलाकर 7 लाख 86 हजार से अधिक किसानों को लाभांवित किया है। कृषि ऋण माफी योजना से सरकार ने उन किसानों की जमीन नीलामी से बचाई है, जो कर्ज अदा कर पाने की स्थिति में नहीं थे।

  • समाजवादी सरकार ने वर्ष 2012 में कृषि ऋण माफी योजना लागू कर उत्तर प्रदेश के किसानों की आजीविका के लिए बचत संभव बनाया है।
  • समाजवादी सरकार ने राज्य सहकारी ग्राम विकास बैंकों से किसानों द्वारा लिए गए 50 हजार रुपये तक के ऋण माफ किए।
  • 7,86,167 किसानों को कृषि ऋण माफी योजना का मिल चुका है लाभ।
  • किसानों को अपने उत्पाद सीधे उपभोक्ताओं को विक्रय की सुविधा देने के लिए बड़े शहरों में एग्रीमॉल की तर्ज पर किसान बाजार विकसित किए जा रहे हैं।
  • विभिन्न शहरों में दो से 10 एकड़ भूमि का चयन कर किसान बाजार स्थापित किए जा रहे हैं।
  • 1643 एग्रीकल्चर मार्केटिंग हब का हो रहा निर्माण। 874 एग्रीकल्चर मार्केटिंग हब निर्माण के बाद संचालित।
  • हर एग्रीकल्चर हब में 10 सी टाइप की दुकानें, एक छायादार नीलामी चबूतरा, दो इंडिया मार्क-2 हैंडपंप, खडंजा आदि का विकास कार्य कराया गया है।
  • समाजवादी सरकार में मंडी समितियों की पहली प्राथमिकता सुख-सुविधायुक्त आधुनिक मंडी स्थलों के निर्माण की है। इसमें कृषि जिन्सों को एक परिसर में लाकर उनका क्रय-विक्रय सुनिश्चित किया जा रहा है।