कारोबार

उत्तर प्रदेश में उद्यमी अब सरकार समर्थित योजनाओं का लाभ उठा सकते हैं। समाजवादी पार्टी सरकार उत्तर प्रदेश में लोगों को अपने उपक्रम स्थापित करने के लिए न सिर्फ प्रोत्साहित कर रही, बल्कि इसके लिए अनुकूल वातावरण प्रदान करने हेतु कई नीतियां भी बनाई है। बेहतर बुनियादी ढांचा तैयार करने के लिए धन अनुदान ऋण देने की प्रक्रिया को बेहद सरल बनाया गया है। समाजवादी सरकार की नीतियों और निर्णयों के फलस्वरूप उत्तर प्रदेश उद्यमियों का पंसदीदा राज्य बन गया है।

जहां एक और बड़े-बड़े कारोबारी कुछ वर्षों पहले तक उत्तर प्रदेश में निवेश करने से कतराते थे , वहीं दूसरी ओर उन्होंने प्रदेश में 7500 करोड़ रूपए निवेश करने का फैसला लिया है। यह पूरी तरह से समाजवादी पार्टी की पहल से संभव हुआ है। सैमसंग इंडिया इलेक्ट्रॉनिक्स प्राइवेट लिमिटेड, नोएडा, रिलायंस सीमेंट कंपनी प्रा. लिमिटेड, इंडो-गल्फ फर्टिलाइजर, जगदीशपुर, गुजरात को-ऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन (जीसीएमएमएफ), एचसीएल टेक्नोलॉजीज लिमिटेड और टाटा समूह जैसी कंपनियां अब उत्तर प्रदेश में पैसे लगा रही हैं।

समाजवादी सरकार तमाम योजनाओं के जरिये रिसर्च, डेवलपमेंट और आधारभूत विकास के लिए उद्यमियों को अनुदान की पेशकश कर रही है। इससे उत्पादकता बढ़ेगी और लागत कम होगी। समाजवादी पार्टी ने उत्तर प्रदेश में उत्कृष्ट ढांचागत बदलाव लाने की दिशा में काम किया है। इससे अब यातायात, आयात-निर्यात के साथ राज्य में निवेश करना आसान हो गया है।

रतन टाटा उत्तर प्रदेश में विकास कार्यों की सराहना कर चुके हैं। उद्योगों की स्थापना के लिए बेहतर माहौल बनाने से वे अभिभूत हैं।